पीरियड्स में गुरुवार का व्रत करना चाहिए या नहीं? जाने नियम

पीरियड्स में गुरुवार का व्रत करना चाहिए या नहीं?
पीरियड्स में गुरुवार का व्रत करना चाहिए या नहीं?
WhatsApp Icon Join our WhatsApp Group

अगर आप इंटरनेट पर पीरियड्स में गुरुवार का व्रत करना चाहिए या नहीं? अगर करना चाहिए तो उसके नियम क्या है किस प्रकार आपको मासिक धर्म के दौरान गुरुवार को व्रत करने से उत्तम फल मिल सकता है इसके बारे में जानने के लिए आप सही और खबर पढ़ रहे हैं. वैसे तो आपको बता दो कि शास्त्रों के अनुसार मासिक धर्म के दौरान किसी प्रकार का व्रत करना अशुभ माना जाता है. अर्थात किसी कोई भी महिला मासिक धर्म के दौरान शुद्ध नहीं रहती है जिसकी वजह से उसको धार्मिक कार्यों में शामिल नहीं होना चाहिए। ‌

पीरियड्स में गुरुवार का व्रत करना चाहिए या नहीं?

भगवान विष्णु और बृहस्पति देव की कृपा पाने के लिए और उनको खुश करने के लिए कई भारतीय महिलाएं गुरुवार का व्रत रखती है जिसकी वजह से उन्हें बृहस्पति देव की और भगवान विष्णु की कृपा मिल सके। ‌ लेकिन कई बार स्त्रियां ऐसे धर्म संकट में फंस जाती है कि उनको समझ नहीं आता है. कि वह व्रत करने के लायक है अभी या नहीं.

अर्थात अगर आपका मासिक धर्म चल रहा है और इस दौरान गुरुवार आ जाता है और आप इसका व्रत करने पर विचार कर रहे हैं। तो यह आपके लिए किसी धर्म संकट से बड़ा नहीं है. अगर सीधी शब्दों में कहा जाए तो आपके पीरियड्स के दौरान गुरुवार का व्रत बिल्कुल भी नहीं रखना चाहिए। ‌ क्योंकि इस दौरान आपका शरीर अशुद्ध होता है जिसकी वजह से आपको भगवान विष्णु और बृहस्पति देवता की असीम कृपा प्राप्त नहीं होती है.

धार्मिक कार्यों से भी मासिक धर्म के दौरान रहे दूर

इसलिए व्रत रखने का कोई मतलब भी नहीं रहता है। ‌ पीरियड के दौरान कई सारी धार्मिक कार्यों में शामिल होने से भी आपको दूर रहना चाहिए ।‌ उदाहरण के लिए कोई भंडारा हो, कहीं पर पूजा पाठ चल रहा हो या फिर मंदिर में प्रवेश से भी आपको दूर रहना चाहिए। ‌ यह आपके लिए काफी अच्छा रहता है. जब आपका मासिक धर्म ना हो ऐसी स्थिति में शुक्ल पक्ष के पहले गुरुवार से आप लोग अपना व्रत शुरू कर सकते हैं। ‌ 17 गुरुवार को व्रत का उद्यापन कर दिया जाता है इस दौरान कन्याओं को भोजन करवा सकती हैं और उद्यापन के दौरान भगवान विष्णु और बृहस्पति देवता की पूजा पाठ कर सकते हैं। ‌

अगर मासिक धर्म के दौरान गुरुवार पड़ता है तो क्या करें?

अगर आपके साथ ऐसी स्थिति हो जाती है कि अपने गुरुवार का व्रत शुरू कर दिया है और उसे दोनों का मासिक धर्म का सर्कल चालू हो जाता है. तो ऐसी स्थिति में आपको गुरुवार का व्रत बिल्कुल नहीं करना चाहिए । इसके बारे में तो हमें आपको बता ही दिया है. अर्थात आपको उस दौरान गुरुवार का व्रत छोड़कर अगले गुरुवार से नियम – कानून के साथ विष्णु भगवान और पशुपति देवता से क्षमा मांगते हुए निरंतर अगले गुरुवार से अपने व्रत को कर सकते हैं। इस दौरान आपको विधि विधान का भी ध्यान रखना चाहिए।

व्रत में इन बातों करके ध्यान

गुरुवार का व्रत हो या कोई भी उपवास हो उसे दौरान आप लोगों को बाल और नाखून इत्यादि को बिल्कुल भी नहीं काटना चाहिए. क्योंकि इससे व्रत का फल प्राप्त नहीं होता है ऐसा हमारे शास्त्रों में बताया गया है. नहीं आपको व्रत के दौरान अपने बालों को धोना चाहिए. व्रत को नियम कानून से करने के साथ-साथ फल फ्रूट खा सकते हैं. इसके अलावा कुटकी के चावल की खिचड़ी खाई जा सकती है। ‌ परंतु नमक खाने से बचें।‌

डिस्क्लेमर : यहां पर मुहैया कराई गई जानकारी इंटरनेट माध्यम से और लोक मान्यताओं के अनुसार दी गई है. किसी भी बात पर अमल करने से पहले विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें. हमारी टीम इस जानकारी की सही होने की पुष्टि बिल्कुल भी नहीं करती है।