सरदार पटेल की जयंती कब आती है? | सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती क्यों मनाई जाती है?

Sardar Vallabhbhai Patel Jayanti: सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर 2022 को मनाई जानी है | अतः इस साल 2022 में सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर यानी कि सोमवार को पड़ रही है | क्या आप भी जानना चाहते हैं कि सरदार वल्लभभाई की पटेल की जयंती क्यों मनाई जाती है ? तो आप एकदम सही पोस्ट पढ़ रहे हैं | 

सरदार पटेल की जयंती

इस पोस्ट में हम आपको ना केवल सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती से संबंधित जानकारी देने वाले हैं | बल्कि इसके अलावा आपको इस पोस्ट में सरदार बल्लभ भाई पटेल की जीवनी (Sardar Vallabhbhai Patel Biography) के बारे में भी जानकारी देने वाले हैं | जिससे आप भी सरदार बल्लभ भाई पटेल से प्रभावित होकर उन जैसे ही कार्य कर पाएं | 

सरदार बल्लभ भाई पटेल

पूरे भारत में ही नहीं बल्कि विश्व में सरदार बल्लभ भाई पटेल ने काफी ज्यादा नाम कमाया है | शायद इसीलिए ही वल्लभ वल्लभ भाई पटेल की गुजरात में नर्मदा नदी के तट पर स्टैचू ऑफ यूनिटी की मूर्ति बनाकर उन्हें सम्मान दिया जाता है | सरदार वल्लभभाई पटेल भारत के एक राजनीतिक प्रोफेशन को फॉलो करते थे | जिन्होंने भारत के उप प्रधानमंत्री के पद पर अपनी सेवा प्रदान की | 

इसके अलावा आपको बता दें कि भारत के उप प्रधान मंत्री रह चुके सरदार बल्लभ भाई पटेल पहले ऐसे व्यक्ति थे जो कि भारत के गृह मंत्री के पद पर भी कार्य कर चुके हैं | इसके अलावा सरदार बल्लभ भाई पटेल ही वही व्यक्ति थे जिन्होंने स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात अखंड भारत को बनाए रखा | सरदार बल्लभ भाई पटेल ने ही स्वतंत्रता प्राप्ति के पश्चात देसी रहे तो को अखंड भारत में जोड़ने के लिए मजबूर किया |

अतः अखंड भारत को अखंड बनाए रखने के लिए सरदार बल्लभ भाई पटेल का बहुत ज्यादा योगदान है | सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर के दिन ही पूरे भारत में राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है | इसके अलावा इस अवसर पर 31 अक्टूबर के दिन ही राष्ट्रीय कार्यान्वयन समिति के द्वारा सुबह 7:00 से 9:00 तक पूरे भारत में 75000 यूनिटी रन करने का निर्णय लिया गया है| 

सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती क्यों मनाई जाती है ? 

तथा बल्लभ भाई पटेल ना केवल भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री के पद पर कार्यरत रह चुके हैं, इसके अलावा वह भारत के पहले गृह मंत्री होने का क्रेडिट भी उन्हें मिलना हुआ है | इसके अलावा उन्होंने भारत की अखंडता को बनाए रखने के लिए काफी प्रयास किए हैं | इसीलिए भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती को 31 अक्टूबर को मनाया जाता है ? 

सरदार बल्लभ भाई पटेल की जीवनी 

अगर हम सरदार वल्लभभाई पटेल की जीवनी (Sardar Vallabhbhai Patel Biography) की बात करते सरदार बल्लभ भाई पटेल को अन्य नाम बल्लभ भाई जावेद भाई पटेल के नाम से भी मशहूर थे | अतः सरदार बल्लभ भाई पटेल का जन्म 31 अक्टूबर 1875 को मुंबई के नाडियाड नामक स्थान पर हुआ था | तथा इनकी मृत्यु 15 दिसंबर 1950 को हुई थी | 

सरदार बल्लभ भाई के पिताजी का नाम झावर भाई तथा माता जी का नाम लाडबाई है | इसके अलावा उनकी शादी भी हो चुकी थी | जिनकी पत्नी का नाम झवेरबाई है | कदर बल्लभ भाई पटेल के तीन भाई तथा एक बहन थी | जिनके नाम क्रमशः सोम भाई, बिट्ठल भाई, नरसीभाई तथा बहन का नाम दहिबा है | सरदार वल्लभभाई पटेल की एक बेटा तथा एक बेटी भी है जिनके नाम क्रमशः दह्याभाई तथा मणिबेन है |