Rishi Panchami 2022 : जानिए ऋषि पंचमी क्यों मनाई जाती है ?

Rishi Panchami 2022 : जानिए ऋषि पंचमी क्यों मनाई जाती है ?

Rishi Panchami 2022 : दोस्तों क्या आप जानना चाहते हैं कि ऋषि पंचमी क्यों मनाई जाती है ? तो आप एकदम सही पोस्ट कर रहे हैं क्योंकि हम आपको इस पोस्ट में ऋषि पंचमी 2022 से संबंधित सभी जानकारी देने वाले हैं | हम सभी जानते हैं कि हमारी लाइफ में ऋषि जाने की गुरुओं को कितना महत्व दिया जाता है | 

Rishi Panchami 2022

अतः भारतीय हिंदू समाज में ऋषि पंचमी का बहुत अधिक महत्व माना जाता है | गुरु अर्थात ऋषि को महत्व देने के लिए ही भारतीय समाज में ऋषि पंचमी जैसे त्यौहार बड़े धूमधाम से मनाया जाते हैं | इसी के साथ महिलाएं इस दिन व्रत भी रखती हैं जिससे कि उनके ऊपर गुरुओं की कृपा हमेशा बनी रहे | इसके अलावा कई सारी ऐसी बातें होती हैं जो कि गुरु हमारी उस परेशानी को सॉल्व कर देते हैं | आइए जानते हैं ऋषि पंचमी 2022 के बारे में अधिक जानकारी | 

ऋषि पंचमी ( Rishi Panchami 2022) 

जैसा कि नाम से ही समझ आता है कि ऋषि पंचमी अर्थात ऋषियों के लिए यह त्यौहार भारत में मनाया जाता है | अगर आप हिंदू धर्म अर्थात सनातन धर्म से संबंधित हैं तो आपको पता ही होगा कि हिंदू धर्म में विषयों को भगवान के समान दर्जा दिया जाता है | एक लाइन है जो कि हिंदू धर्म में बहुत ज्यादा प्रचलित है - " गुरु के बिना ज्ञान नहीं | " यह लाइन ऋषियों के लिए भी सार्थक सिद्ध होती है | 

भारत की इस पवित्र देवभूमि पर ना जाने ऐसे कितने ऋषि पैदा हुए हैं जिन्होंने भारत को अनेक प्रकार का ज्ञान दिया है | जिनमें प्रमुख नाम ऋषि मुनि वशिष्ठ, कश्यप ऋषि, विश्वामित्र, अत्रि, जमदग्नि, गौतम और भारद्वाज ऋषियों को सप्त ऋषि के नाम से जाना जाता है | अतः इन्हीं विषयों के लिए ऋषि पंचमी 2022 की पूजा की जाती है |  

ऋषि पंचमी का त्यौहार क्यों मनाया जाता है ? 

अब दोस्तों आपको इतना तो पता चल ही गया कि ऋषि पंचमी का क्या महत्व है अगर आपने अभी तक का यह आर्टिकल अच्छे से पढ़ा है तो | अब आप यह भी समझ गए होंगे कि ऋषि पंचमी का का त्यौहार भारत में क्यों मनाया जाता है ? चलिए हम इसके बारे में भी अब जानकारी ले लेते हैं | ऋषि पंचमी का त्योहार भारत में भारतीय ऋषि यों को महत्व देने के लिए मनाया जाता है ? 

जैसा कि हमने आपको अभी ऊपर बताया है कि भारत में सप्त ऋषि नाम के साथ ऋषि पैदा हुए हैं जो कि इतने महान थे कि जिनकी तुलना भगवान के समान की जाती है | अतः इन विषयों को महत्व देने के लिए हम हर साल भाद्रपद शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को ऋषि पंचमी का त्यौहार मनाया जाता है | 

ऋषि पंचमी व्रत क्यों रखा जाता है ? 

दोस्तों अगर आपको ऋषि पंचमी के बारे में जानकारी लेना है तो आपको काफी सारी जानकारी ऊपर ही मिल गई होगी | परंतु अब हम आपको बता दें कि ऋषि पंचमी का व्रत भारतीय महिलाएं रखकर सप्त ऋषि जैसे कि ऋषि मुनि वशिष्ठ, कश्यप ऋषि, विश्वामित्र, अत्रि, जमदग्नि, गौतम और भारद्वाज के लिए किया जाता है | 

वेद पुराण के अनुसार ऐसा माना जाता है कि अगर कोई स्त्री जाने अनजाने में रजस्वला अवस्था में पूजा पाठ कर लेती है या फिर अपने पति को स्पर्श कर लेती है तो इस तरीके के पाप का प्रायश्चित ऋषि पंचमी के व्रत को कर के किए जाते हैं | अतः ऋषि पंचमी का व्रत करने के बाद महिलाएं इस तरीके के पाप से मुक्त हो जाती हैं |