Madhya Pradesh, Sagar News : एमपी के सागर में एक स्कूल में बच्चों को एक ही सिरेंज से लगाई कोरोना वैक्सीन, अभिभावकों ने की शिकायत दर्ज |

Madhya Pradesh, Sagar News : एमपी के सागर में एक स्कूल में बच्चों को एक ही सिरेंज से लगाई कोरोना वैक्सीन, अभिभावकों ने की शिकायत दर्ज |

Madhya Pradesh, Sagar News : मध्य प्रदेश के सागर जिले से अभी हाल ही में एक नया मामला सामने आ रहा है जिसमें बताया जा रहा है कि सागर जिले के एक स्कूल में एक ही सीरियल से करीब 30 बच्चों को एक ही सिरेंज कोरोनावायरस की वैक्सीन लगाई गई, जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए था | इससे इंफेक्शन का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है | 

Madhya Pradesh, Sagar News : एमपी के सागर में एक स्कूल में बच्चों को एक ही सिरेंज से लगाई कोरोना वैक्सीन, अभिभावकों ने की शिकायत दर्ज |
( Image Credit : NDTV.COM)

जब वैक्सीन लगाने वाले व्यक्ति से पूछा गया कि आपने ऐसा क्यों किया ? कि आपको इसके बारे में जानकारी नहीं थी | तो उस व्यक्ति ने कहा कि मुझे भी इसकी जानकारी है, लेकिन इसमें मेरी गलती नहीं है | इस शख्स का नाम जितेंद्र था, जिस ने बताया कि टीका लगाने के लिए केवल अधिकारियों द्वारा एक ही सिरेंज भेजी गई थी |

क्या है पूरा मामला 

दरअसल यह मामला मध्य प्रदेश की सागर जिले का है जिसमें एक निजी स्कूल में कोरोनावायरस की वैक्सीन लगाने के लिए कैंप लगाया गया था | यह कैंप जैन पब्लिक स्कूल में लगाया गया था | जिसमें कोरोनावायरस की वैक्सीन लगाने वाले एक शख्स जिसका नाम जितेंद्र था, उसने 30 बच्चों को एक ही सिरेंज से वैक्सीन लगाई | 

आपको बता दें कि एक ही सिरेंज का सभी बच्चों के लिए कोरोनावायरस की वैक्सीन लगाने इस्तेमाल करना खतरे से खाली नहीं होता | यह जानते हुए भी उस जितेंद्र नाम के शख्स ने ऐसा किया | अभिभावकों को इस बात की जानकारी मिलने पर उन्होंने शिकायत दर्ज की | इसके बाद जो इस शख्स से पूछताछ की गई | तब इस शख्स का कहना है कि अधिकारियों ने ही उसे वैक्सीन लगाने के लिए एक ही सीरेंज दी थी | 

जिसके चलते इस जितेंद्र नाम के शख्स ने एक ही सी रेंज से 30 बच्चों को कोरोनावायरस की वैक्सीन लगा दी | और फिर इस शख्स ने दावा किया है कि इस पूरी करामात में मेरी कोई भी गलती नहीं है | यह गलती उस अधिकारी की है जिसने उससे एक ही सिरेंज सभी बच्चों को वैक्सीन लगाने के लिए बोला था | 

जब यह खबर जिले के जिला अधिकारी को लगी, और यह मामला काफी गंभीर है | जिसके चलते जिला कलेक्टर ने तुरंत मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश देकर इस मामले को सुलझाया | वैक्सीन लगाने के लिए अन्य जरूरी सामान भी जिला कलेक्टर के द्वारा निर्देश देने पर उपलब्ध कराया गया |