Parshuram Jayanti in Hindi 2022 : परशुराम जयंती क्यों मनाई जाती है |

Parshuram Jayanti in Hindi 2022 : आज 3 मई को भगवान परशुराम का जन्म हुआ था | उनके जन्म के इस मौके पर हर साल हिंदू धर्म में परशुराम जयंती मनाई जाती है | हिन्दू पंचांग के अनुसार वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को Parshuram Jayanti मनाई जाती है | 

Parshuram Jayanti in Hindi 2022 : परशुराम जयंती क्यों मनाई जाती है |


हेलो दोस्तो ! स्वागत है आपका, INshortkhabar.com की एक और नई पोस्ट में | हम आपको आज की इस नई पोस्ट में Parshuram Jayanti in Hindi 2022 के बारें में जानकारी देने वाले है | अगर आप एक हिंदू है तो आपको परशुराम के बारे में तो जानते ही होंगे | फिर भी हम आपको एक संक्षेप में जानकारी देने की कोशिश करेंगे | 


Parshuram Jayanti in Hindi 2022 


भगवान परशुराम प्रसेनजित की पुत्री रेणुका के पुत्र थे | भगवान परशुराम के पिता का नाम भृगुवंशी जमदग्नि है | भारतीय ग्रंथों के अनुसार भगवान परशुराम विष्णु भगवान के छठे अवतार के रूप में जाने जाते है | 


दुर्वासा की तरह वह भी अपने गुस्सैल स्वभाव के लिए मशहूर हैं। एक बार कार्तवीर्य ने परशुराम की अनुपस्थिति में आश्रम को नष्ट कर दिया था, जिससे परशुराम क्रोधित हो गए और उन्होंने अपनी हजार भुजाओं को काट दिया।


कार्तवीर्य के रिश्तेदारों ने प्रतिशोध में जमदग्नि को मार डाला। इस पर परशुराम ने 21 बार (हर बार मारे गए क्षत्रियों की पत्नियों की पत्नियों के जीवित रहने और एक नई पीढ़ी को जन्म देने के लिए) पृथ्वी का सिर काट दिया और पांच झीलों को खून से भर दिया। अंत में पितरों की आवाज सुनकर उन्होंने क्षत्रियों से युद्ध करना छोड़ दिया और तपस्या का ध्यान किया।


रामचंद्र द्वारा रामावतार में शिव के धनुष को तोड़ने के बाद वे क्रोधित हो गए। उसने परीक्षा के लिए अपना धनुष रामचंद्र को दे दिया। जब राम ने अपना धनुष चढ़ाया, तो परशुराम समझ गए कि रामचंद्र विष्णु के अवतार थे। इसलिए उसकी पूजा कर वह तपस्या करने चला गया।


जय जय रघुकुल केतु बोलो। भृगुपति तपस्या के लिए गए। यह वर्णन 'रामचरितमानस' में मिलता है, जो 267 से 284 दोहे का पहला चरण है।


जैसा की हम आपको पहले ही बता चुके है की भगवान परशुराम भगवान विष्णु के छठे अवतार के रूप में जाने जाते है | वहीं इन्हें भी हनुमान जी की तरह चिरंजीवी होने का आशीर्वाद मिला हुआ है |


आज की इस पोस्ट में हम आपको Parshuram Jayanti in Hindi 2022 के मोके पर शुभकामना सन्देश बताने वाले है | 


परशुराम की जयंती पर शुभकामना सन्देश 


1.शांत है तो श्रीराम है

भड़क गए तो परशुराम है

जय श्री राम

जय श्री परशुराम


2.शस्त्र और शास्त्र दोनों ही हैं उपयोगी

यही पाठ सिखा गए हैं हमें योगी

जय श्री परशुराम


( यह सन्देश india.com से लिए गए है | )


अंतिम शब्दों में 


आज की इस पोस्ट में इन्शोर्टखबर ने आपको Parshuram Jayanti in Hindi 2022 के बारे में जानकारी प्रदान की है | अगर आपको आज की ये पोस्ट पसंद आई हो तो इससे आप अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करना जिससे उनको भी Parshuram Jayanti के बारे में जानकारी मिल सके |