क्या होगा, अगर हम गुरुत्वाकर्षण बल को नियंत्रित करने का रास्ता खोज ले ? | Gravitational Force Fact in Hindi 2022

Gravitational Force Fact in Hindi : अगर वैज्ञानिक ग्रेविटी यानी की गुरुत्वाकर्षण बल की कंट्रोल अर्थात नियंत्रित करने का रास्ता खोज के तो क्या होगा | ग्रेविटी को कई वैज्ञानिकों ने अलग - अलग तरीके से समझाया है | अगर आप Gravitational Force के बारे में एक Fact जानना चाहते है , वो भी हिंदी में तो इस पोस्ट को पूरा पढ़िए |

क्या होगा, अगर हम गुरुत्वाकर्षण बल को नियंत्रित करने का रास्ता खोज ले ? | Gravitational Force Fact in Hindi 2022

हेलो दोस्तो ! आज की इस पोस्ट में हम आपको साइंस अर्थात विज्ञान के क्षेत्र से जुड़े गुरुत्वाकर्षण बल ( Gravitational Force ) के बारे में एक Fact बताने वाले है | अगर आपको विज्ञान से जुड़े तथ्य पढ़ना या सुनना अच्छा लगता है तो यह पोस्ट आपके लिए है | 

सबसे पहले इस Gravitational Force से जुड़े Fact के बारे में जानने से पहले आपको Gravtitational Force मतलब गुरुत्वाकर्षण बल की परिभाषा को जानना आवश्यक है | चलिए हम पहले गुरुत्वाकर्षण की परिभाषा जन लेते है | 

गुरुत्वाकर्षण क्या है ( What is Gravitational Force in Hindi ) ? 

अगर आप गुरुत्वाकर्षण की परिभाषा को गूगल पर सर्च कर रहे है , और अपने जो भी परिभाषा पढ़ी है उनसे आप संतुष्ट नहीं है तो हमे उम्मीद है की आप इस परिभाषा को पढ़ कर भली भांति गुरुत्वाकर्षण की परिभाषा को समझ पाएंगे | 

दरअसल सन 1667 में वैज्ञानिक न्यूटन ने यह गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत दिया था | इस सिद्धांत में उन्होंने ने बताया की जब कोई दो पिंड ( Object) के बीच कुछ दूरी हो और दोनो पिंडो का कुछ द्रव्यमान हो, तो दोनो पिंडो के बीच एक बाल कार्य करता है | जिसे हम गुरुत्वाकर्षण बल कहते है | 

अत: आपको एक बात तो समझ आ गई होगी की यह गुरुत्वाकर्षण बल दो पिंडो के बीच में काम करता है | और यह बल एक प्रकार का आकर्षण बल है, जिसमे दोनो पिंड अपने - अपने गुरुत्वाकर्षण के कारण एक दूसरे की ओर आकर्षित होते है | वैज्ञानिक न्यूटन ने तो इसके लिए एक सूत्र भी दिया है | 

न्यूटन के द्वारा दिया गया गुरुत्वाकर्षण सूत्र - 




जहाँ शब्दों का शाब्दिक अर्थ है -


F : Gravitational Force 

M1 : The Mas of First Object 

M : The Mass of Second Object 

r Square : Distance between Both Objects 

अर्थात गुरुत्वाकर्षण बल का मान दोनों पिंडो के द्रव्यमानों के गुणनफल के समानुपाती और बीच की दूरी के वर्ग के व्युत्क्रमनुपाती होता है | यहां पर G एक नियतांक है | जिसका मान हमेशा ही स्थिर रहता है | 

उम्मीद है आपको अब तक गुरुत्वाकर्षण बल के बारे में समझ आ गया होगा | आपको इस प्रश्न का जवाब जानने से पहले गुरुत्वाकर्षण की परिभाषा समझना जरूरी है | इसलिए हमने आपको इसके बारे में बताया | अब हम इसके Question की बात कर लेते है | 

क्या होगा, अगर हम गुरुत्वाकर्षण बल को नियंत्रित करने का रास्ता खोज ले ? 

दोस्तों अगर आप गुरुत्वाकर्षण बल को नियंत्रित करने का रास्ता खोज लेते है तो हम पूरी दुनिया को कंट्रोल कर सकते है | क्योंकि हमारी पूरी Galaxy गुरुत्वाकर्षण बल पर टिकी हुई है | ऐसे में हम यदि  गुरुत्वाकर्षण बल को नियंत्रित करने का रास्ता खोज लेते है, तो आपके हाथ में पूरी दुनिया का नियंत्रण होगा | 


हम सभी जानते है की हमारी पृथ्वी और बाकि सभी ग्रह, उपग्रह ग्रेविटेशनल बल की वजह से एक - दूसरे के जुड़े हुए है | अगर इनके बीच से गुरुत्वाकर्षण बल काम नहीं करता तो ये पिंड एक दूसरे से भिड़ जाते या फिर अपना संतुलन बिगड़ जाता | 



हमें उम्मीद है की आपको गुरुत्वाकर्षण बल से जुड़े इस Fact के बारे में पूरी बात समझ आ गई होगी | और इसके  अलावा आप गुरुत्वाकर्षण बल के बारे में भी समझ गए होंगे | 


आज आपने क्या सीखा ? 


दोस्तों आज की इस पोस्ट में  हमने आपको गुरुत्वाकर्षण बल से जुड़े Fact, अगर आप गुरुत्वाकर्षण बल को नियंत्रित करने का रास्ता खोज लेते है, तो क्या होगा | इसके अलावा हमने आपको गुरुत्वाकर्षण बल की परिभाषा भी बताई है | 


अगर आपको गुरुत्वाकर्षण बल से जुड़ा यह Fact पसंद आया हो तो आप इससे अपने दोस्तों  के साथ जरूर शेयर करे | जिससे उनको भी इस गुरुत्वाकर्षण बल से जुड़े फैक्ट के बारे में जानकारी मिल सके | और आप हमें ऐसे ही मजेदार Science Fact की लिए या फिर हिंदी न्यूज़ पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट INshortkhabar.com पर Visit करते रहिये |