Neeraj Chopra birthday today 2021: ओलंपिक विजेता एथलेटिक्स नीरज चोपड़ा का आज जन्मदिन ||

ओलंपिक विजेता एथलेटिक्स नीरज चोपड़ा का आज जन्मदिन

टोक्यो ओलंपिक में भारत को पहला एथलेटिक्स गोल्ड दिलाने वाले नीरज चोपड़ा आज अपना 24वां जन्मदिन मना रहे हैं। नीरज का जन्म 24 दिसंबर 1997 को हरियाणा में हुआ था। जब वह 12 साल के थे, तब उनका वजन 85 किलो था और इस बात को लेकर गांव के लड़के उनका मजाक उड़ाते थे।

Neeraj Chopra birthday today 2021:  ओलंपिक विजेता एथलेटिक्स नीरज चोपड़ा का आज जन्मदिन ||
( this Image May be Subject to Copyright. ) 

टोक्यो ओलंपिक में भारत के 121 के सूखे को खत्म करते हुए भारत के स्टार भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने देश की झोली में स्वर्ण पदक डाला. ओलंपिक इतिहास में पहली बार भारत को एथलेटिक्स में गोल्ड मेडल दिलाने वाले नीरज चोपड़ा आज अपना 24वां जन्मदिन मना रहे हैं। नीरज ओलंपिक में व्यक्तिगत स्वर्ण जीतने वाले दूसरे भारतीय खिलाड़ी हैं। उनसे पहले शूटिंग में अभिनव बिंद्रा ने ये कमाल किया था।

24 दिसंबर 1997 को हरियाणा में जन्मे नीरज ने टोक्यो ओलंपिक के फाइनल में 87.58 मीटर के थ्रो के साथ स्वर्ण पदक जीता था। एथलेटिक्स में इस मेडल का इंतजार पूरा देश सालों से कर रहा था, नीरज चोपड़ा ने खत्म किया उनका इंतजार नीरज देखते ही देखते आइकॉन बन गए। एक समय था जब गांव के लड़के उनका मजाक उड़ाते थे। अधिक वजन होने के कारण गांव के लड़के सरपंच कहकर उनका मजाक उड़ाते थे। इसके बाद ही उनके पिता ने उन्हें जिम भेजना शुरू किया। 

बिना ट्रेनिंग के ही 40 मीटर तक जेवलिन फेंक लेते थे |

दरअसल, नीरज जब 12 साल के थे, तब खट्टा क्रीम खाने की वजह से उनका वजन 85 किलो तक पहुंच गया था। ऐसे में जब वह कुर्ता पहनकर बाहर निकलते थे तो गांव के लड़के उन्हें गांव का सरपंच कहकर उनका मजाक उड़ाते थे.

पीएम मोदी ने आपसे फोन पर बात की, आपको क्या लगता है कि ओलंपिक में एथलीटों के लिए इससे बेहतर क्या किया जा सकता है? नीरज ने कहा कि मुझे अच्छा लगा कि पीएम मोदी ने मुझसे बात की। वैसे उन्होंने सभी मेडलिस्ट से बात की.. उन्होंने पदक नहीं जीतने वाली महिला हॉकी टीम से भी बात की। इससे अच्छी बात और क्या होगी कि पीएम खुद खिलाड़ियों का हौसला बढ़ा रहे हैं. हर खिलाड़ी इस बार हिस्सा लेने नहीं बल्कि मेडल जीतने आया है। इसलिए सभी ने अपना पूरा जोर लगाया। ओलंपिक में इस बार खिलाड़ी शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से फिट रहे। यह ओलंपिक भारत के लिए अच्छा रहा और आने वाला ओलंपिक बेहतर होगा।

Also Read :