Mahaparinirvan Diwas 2021: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भीमराव अंबेडकर को दी श्रद्धांजलि पुण्यतिथि पर

Mahaparinirvan Diwas 2021: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भीमराव अंबेडकर को दी श्रद्धांजलि पुण्यतिथि पर,Dr. Bhimrao Ambedkar के बारे मैं, INshortkhabar

Mahaparinirvan Diwas 2021For Dr. Bhimrao Ambedkar:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भीमराव अंबेडकर को उनकी पुण्यतिथि  पर श्रद्धांजलि  दी | आज 6 दिसंबर को सोमवार के दिन डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जोकि संविधान सभा के निर्माता थे |  वह आज ही के दिन इस भारत देश से हमेशा हमेशा के लिए विदा हो गए थे और उनकी आज पुण्यतिथि पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनको श्रद्धांजलि अर्पित की और अपने ऑफिशियल टि्वटर हैंडल पर यह जानकारी Share की | पूरे भारत वासियों को इसकी जानकारी दी | 


Mahaparinirvan Diwas 2021: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भीमराव अंबेडकर को दी श्रद्धांजलि पुण्यतिथि  पर
( this Image May be Subject to Copyrigt) 

नमस्कार दोस्तों , INshortkhabar  की नई खबर में आपका स्वागत है | आज  यानी कि 6 दिसंबर को डॉक्टर भीमराव अंबेडकर दुनिया को छोड़ कर हमेशा हमेशा के लिए चले गए थे आज डॉक्टर भीमराव अंबेडकर पुण्यतिथि पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने   भीमराव अंबेडकर को श्रद्धांजलि दी |  जोकि संविधान सभा के मुख्य वास्तुकार और दलितों के प्रतीक के रूप में दलितों के साथ थे |

Dr. Bhimrao Ambedkar के बारे मैं ( About Bhimrao Ambedkar ) -  

भारत के रत्न डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जो कि संविधान  निर्मात्री सभा के  सदस्य के तौर पर कार्यरत थे और दलितों ( ST, SC )  के हितों के संरक्षक थे |  उनका जन्म मध्य प्रदेश के इंदौर जिले की महू नाम की एक तहसील  मैं 14 April 1891 हुआ था | दुर्भाग्यवश डॉक्टर भीमराव अंबेडकर 6 सितंबर 1956 को दुनिया को छोड़कर हमेशा हमेशा के लिए परलोक सुधार है अर्थात उनका निधन हो गय | और आज ही के दिन जाने की सोमवार 6 दिसंबर को डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की  65th Death Anniversary है | 


अगर हम  भीमराव अंबेडकर की शिक्षा की बात करें तो उन्होंने शिक्षा में महारत हासिल कर रखी  थी |  वह एक पीएचडी धारक व्यक्ति थे उन्होंने अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट की आने की पीएचडी कर रखी थी |  उन्होंने कोलंबिया विश्वविद्यालय और लंदन स्कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्स से पढ़ाई की थी |  तो अगर आप उनकी शिक्षा का स्तर देखे तो उन्होंने काफी हद तक अर्थशास्त्र में महारत हासिल कर ली थी |  और पीएचडी करने के पश्चात डॉक्टरेट की उपाधि धारण की |  जब कोई व्यक्ति अपनी पढ़ाई की भी एक सब्जेक्ट में पूरी कर लेता है तो वह उस विषय का विशेषज्ञ डॉक्टरेट कहलाता है |  और इसके लिए हमें पीएचडी (Doctorate Of philosophy ) की परीक्षा पास करनी होती है | 


FAQs On Bhimrao Ambedkar

(भीमराव अंबेडकर से संबंधित कुछ प्रश्न ) - 

डॉक्टर भीमराव अंबेडकर को कौन सी उपाधि दी गई थी ? 

वैसे तो डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ने शिक्षा में पीएचडी की उपाधि धारण की थी |  परंतु इसके अलावा उन्होंने कई और उपाधि भी दी गई थी  जिनमें उन्हें सन 1922 मे  ग्रेज इन ने बैरिस्टर  लॉज की डिग्री प्रदान  की | उन्होंने अर्थशास्त्र में डॉक्टरेट ऑफ साइंस (D.Sc.) की भी उपाधि प्राप्त की |

बाबासाहेब आंबेडकर ने हिंदू धर्म क्यों छोड़ा ? 

तू जैसा कि आप सब लोग जानते हैं कि बाबा साहब अंबेडकर हिंदू धर्म में प्रचलित छुआछूत की प्रथा से काफी परेशान थे और उसके खिलाफ थे क्योंकि वे एक निचली जाति से संबंधित थे इस वजह से उन्होंने हिंदू धर्म को छोड़ा | और  उन्होंने भगवान बुद्ध द्वारा स्थापित बौद्ध धर्म को अपना  लिया |  b