Friday, January 27, 2023
Google search engine
HomeHindi Newsजानिए झंडा लगाने के हैं कुछ नियम ,नहीं तो हो सकती है...

जानिए झंडा लगाने के हैं कुछ नियम ,नहीं तो हो सकती है सजा

राष्ट्रीय पर्व के नजदीक आते ही लोगों के मन में देशभक्ति की भावना उठने लगती है। खासकर गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस पर लोग घरों, कारों, बाइक आदि पर तिरंगा झंडा लगाते नजर आते हैं। कोई शरीर पर तिरंगा फहराता है तो कोई छाती पर बिल्ला लगाकर देशभक्ति की भावना का इजहार करता है। गणतंत्र दिवस फिर आने वाला है। ऐसे में कई लोगों ने अपने वाहनों पर तिरंगा झंडा लगाने के लिए खरीदारी की होगी, लेकिन ऐसा करने से पहले सावधान हो जाएं. ऐसा करने पर आपको सजा हो सकती है, आइए जानते हैं क्या कहते हैं नियम।

जानिए झंडा लगाने के हैं कुछ नियम ,नहीं तो हो सकती है सजा

कुछ खास लोग झंडा लगा सकते हैं ? 

गणतंत्र दिवस से पहले बाजार में तिरंगे झंडे बिकते नजर आ रहे हैं. कई लोग इन्हें वाहनों पर झंडा लगाने के लिए खरीदते भी हैं, लेकिन ऐसा करने पर सजा मिल सकती है। भारतीय ध्वज संहिता के अनुसार कुछ खास लोगों को ही वाहनों पर झंडा लगाने का अधिकार दिया गया है, इनके अलावा अगर कोई व्यक्ति वाहन पर झंडा लगाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है | 

झंडा करने के कुछ नियम हैं – 

भारतीय ध्वज संहिता वर्ष 2002 में राष्ट्रीय ध्वज फहराने के लिए बनाई गई थी। इसके तहत झंडा फहराने को लेकर कुछ खास नियम बनाए गए। इनमें से एक नियम में यह बताया गया था कि वाहनों पर झंडा कौन लगा सकता है। इसके लिए उन्हें विशेष अधिकार दिए गए हैं।

इन्हें है तिरंगा लहराने का अधिकार

नियमों के अनुसार, राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, कैबिनेट मंत्री, कैबिनेट मंत्री, लोकसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष, राज्यसभा के उपाध्यक्ष, राज्यपाल, उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री, विधान सभा के अध्यक्ष, भारत के मुख्य न्यायाधीश, उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और भारत में विदेश में कार्यरत केवल आयोग और पद के अध्यक्ष ही वाहनों पर झंडा लगा सकते हैं। इनके अलावा किसी अन्य व्यक्ति द्वारा वाहन पर झंडा लगाने पर जेल या जुर्माना भी हो सकता है।

घरों पर तिरंगा फहराने की इजाजत साल 2004 में मिली थी


आपको बता दें कि पहले घरों पर भी तिरंगा फहराने की इजाजत नहीं थी। केवल सरकारी कार्यालयों, विभागों और शैक्षणिक संस्थानों में ही तिरंगा फहराया जा सकता है. इसके खिलाफ नवीन जिंदल कोर्ट गए। उनकी याचिका पर साल 2004 में सुप्रीम कोर्ट ने हर भारतीय को झंडा फहराने की इजाजत दे दी।

शर्तों के साथ रात में भी तिरंगा फहराया जा सकता है।

आपको बता दें कि पहली रात में भी तिरंगा नहीं फहराया जा सका. इसे सूर्यास्त के समय सम्मान के साथ उतारा जाता है और फिर सूर्योदय के समय फिर से फहराया जाता है। वहीं, दिसंबर 2009 में गृह मंत्रालय ने रात में तिरंगा फहराने की सशर्त सहमति दी थी। नियमों के मुताबिक अगर पर्याप्त रोशनी हो तो रात में भी तिरंगा फहराया जा सकता है।

https://www.inshortkhabar.com/feeds/posts/default?alt=rss
RELATED ARTICLES

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments